AGLI DUNIYA carajeevgupta.blogspot.in

carajeevgupta.blogspot.in

73 Posts

169 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 18111 postid : 1297676

नोट बंदी पर अब तक का सबसे बड़ा खुलासा !!!

  • SocialTwist Tell-a-Friend

नोट बंदी की घोषणा हुये तीन दिन हो चुके थे. सभी टी वी चैनल अपनी टी आर पी बढाने के चक्कर मे इस बात की होड़ मे लगे हुये थे कि देश मे जहाँ कही भी किसी की भी मौत किसी भी वजह से हुई हो, उसे किसी भी तरह से नोट बंदी से जोड़कर दिखलाया जाये. “खबरदार” टी वी चैनल अभी तक इस दौड़ मे शामिल नही हुआ था और लिहाज़ा इस टी वी चैनल की टी आर पी का बैंड बज़ा हुआ था. टी वी चैनल की संपादक मंडली के लोग गंभीर सोच विचार मे ही थे कि अचानक ही चैनल के चीफ एडिटर ने अपने प्राइम टाइम शो को पेश करने वाले एँकर-पत्रकार को  एक सुझाव दिया-”भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई शुरु करने की नौटंकी करने वाले क्रेजीवाल आजकल जरूरत से ज्यादा बैचेन नज़र आ रहे हैं- उनकी अद्भुत चीख पुकार का हम अपने चैनल की टी आर पी बढाने के लिये उपयोग कर सकते हैं.” संपादक जी के इशारे को समझते हुये पत्रकार महोदय ने क्रेजीवाल जी को फोन लगा दिया और उन्होने उछलते हुये “खबरदार” चैनल के प्राइम टाइम शो मे शामिल होने के लिये हामी भर दी.

प्राइम टाइम शो के कार्यक्रम का नाम भी धमाकेदार रखा गया -”नोट बंदी पर अब तक का सबसे बड़ा खुलासा !!!”प्राइम टाइम शो रात 9 बजे शुरु होना था. लेकिन क्रेजीवाल जी व्यस्त होने के बाबजूद पूरे आधा घंटा पहले ही स्टूडियो मे पधार चुके थे. उनकी बेचैनी और हैरानी परेशानी को देखकर प्राइम टाइम शो को एँकर करने वाले पत्रकार भी बेहद हैरान थे लेकिन उन्होने अपनी हैरानी वाले सवाल को भी प्राइम टाइम शो के लिये ही बचा कर रख लिया.

शो शुरु होते ही पत्रकार ने अपना पहला सवाल क्रेजीवाल जी के ऊपर दागा-” क्रेजीवाल जी, आप जरूरत से ज्यादा व्यस्त होने के बाबजूद भी, हमारे स्टूडियो मे पूरे आधा घंटा पहले पहुंच गये, इसके पीछे भी कोई खास राजनीतिक चाल है या कोई और वजह है ?”

क्रेजीवाल : नही इसके पीछे कोई खास वजह नही है- मैं दरअसल अपने घर से आपके स्टूडियो तक पैदल ही चलकर आया हूँ और इसलिये शाम को 6 बजे ही चल दिया था, इसी चक्कर मे आधा घंटा पहले ही पहुंच गया.

पत्रकार : क्रेजीवाल जी, आपकी गाड़ी क्या खराब हो गयी है, जिसके चलते आपको पैदल आने की जरूरत पड गयी ?

क्रेजीवाल : नही पत्रकार महोदय, अब नोट बंदी के बाद हमारे पास इतने पैसे ही कहाँ बचे हैं कि हम लोग कहीं कार से आ जा सकें.

पत्रकार (हैरान होते हुये) : क्रेजीवाल जी, आपके पास तो पुराने 500 और 1000 के नोटों का अपार भंडार हुआ करता था-उसे बैंक मे जमा करवाकर आप नये नोट निकलवा सकते थे या फिर ई-पेमेन्ट कर सकते थे.

क्रेजीवाल : पहले तो में आपकी जानकारी दुरुस्त कर दूं कि मेरे पास सिर्फ 500 के नोटों का भंडार था-1000 के नोटो का भंडार मेरे पास नही था. दूसरी बात यह है कि बैंको मे सिर्फ वही नोट जमा हो रहे हैं जिन्हे रिजर्ब बैंक ऑफ इंडिया ने जारी किया है-मेरे पास जो नोट हैं उन्हे पाकिस्तान सरकार ने छापा है.

पत्रकार एकदम सन्न रह गया और अपनी सीट से उठकर खड़ा हो गया: इसका मतलब क्रेजीवाल जी, आप पाकिस्तान से भेजे गये नकली नोटों के सौदागर हैं ?

क्रेजीवाल (अपना मफलर कसकर लपेटते हुये) : हाँ जी, मैं सिर्फ 500 के नकली नोटों मे ही डील करता हूँ लेकिन इस नोट बंदी से मेरा सारा धंधा चौपट कर दिया है मोदी ने .

पत्रकार (बेहद हैरानी के साथ) : क्रेजीवाल जी, आप बार बार यह कह रहे हैं कि आप सिर्फ 500 रुपये के नकली नोटों के भारत मे अधिकृत सौदागर है तो फिर यह बताएं कि पाकिस्तान से जो 1000 के नकली नोट छपकर देश मे आते हैं, उनका भारत मे होलसेल डिस्ट्रीब्यूटर कौन है ?

क्रेजीवाल : अपनी मनता दीदी………मेरे कहने का मतलब मनता सनर्जी . 1000 के नकली नोटो की इस देश मे वे इकलौती अधिकृत सौदागर हैं.

पत्रकार : फिर तो क्रेजीवाल जी, सिर्फ आपका ही नही, मनता दीदी का भी नकली नोटों का धंधा पूरी तरह चौपट हो गया ?

क्रेजीवाल : हाँ जी, अब आप बिल्कुल सही समझे हैं- हम दोनो का का ही नकली नोटों का धंधा मोदी ने पूरी तरह चौपट कर दिया है. काले धन के सौदागर तो बैंकों मे अपने पैसे को जमा करा रहे हैं और उसे टैक्स देकर सफेद कर रहे हैं लेकिन हमारे जैसे नकली नोटों के सौदागार आखिर कहाँ जाएं ?

पत्रकार : क्रेजीवाल जी, मैं आपकी परेशानी और चीख पुकार को अच्छी तरह समझ चुका हूँ और हमारे दर्शक भी यह जान गये हैं कि नोट बंदी की सबसे ज्यादा मार सिर्फ आप दोनो पर ही क्यों पड़ी है. हम इस चर्चा को कल भी जारी रखेंगे. आज प्राइम टाइम शो का वक्त अब खत्म होता है. स्टूडियो मे पधारने के लिये आपका धन्यवाद. कल इसी वक्त आपका इस स्टूडियो मे एक बार फिर से स्वागत किया जायेगा.

पत्रकार की बात सुनते ही क्रेजीवाल ने अपने चिर परिचित ढंग से खाँसना शुरु कर दिया.
इससे पहले कि क्रेजीवाल जी कुछ और बोल पाते, टी वी पर कामर्शियल ब्रेक शुरु हो गया.

(इस काल्पनिक व्यंग्य रचना मे वर्णित सभी पात्र, घटनाएं एवं संवाद पूरी तरह से काल्पनिक हैं और उनका किसी जीवित या मृत व्यक्ति,संस्था या संगठन से कोई लेना देना नही है.)

Follow Rajeev Gupta on Twitter @RAJEEVGUPTACA

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

20 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Sangram Singh के द्वारा
December 6, 2016

नोटबंदी पर अब तक का सबसे बड़ा खुलासा व्यंग्य के माध्यम से करने के लिए आपका हार्दिक आभार एवं अभिनन्दन

Dr.M.L.Sharma के द्वारा
December 6, 2016

राजीव जी, व्यंग्य रचना के माध्यम से आपने इन देशद्रोही नेताओं को पूरी तरह बेनकाब कर दिया है.

Mohan Lal के द्वारा
December 6, 2016

बेहतरीन व्यंग्य रचना पेश करने के लिए आपको बधाई

Satish Saxena के द्वारा
December 6, 2016

बहुत तीखा प्रहार किया है आपने इन देशद्रोही और भ्रष्ट नेताओं के ऊपर ! धन्यवाद

Naim Naqvi के द्वारा
December 6, 2016

गद्दारों की असलियत का आपने बखूबी पर्दाफाश किया है.

Balwant Singh के द्वारा
December 6, 2016

आपने अपनी काल्पनिक व्यंग्य रचना के माध्यम से वास्तविक देशद्रोहियों और अपराधियों का पर्दाफाश कर दिया है. अब सरकार को चाहिए की वह देशहित में इन अपराधियों के लिए कड़े दंड की व्यवस्था करे.

Seema Bhargava के द्वारा
December 6, 2016

जबरदस्त कटाक्ष !!! बधाई !!!

D K Sharma के द्वारा
December 6, 2016

आपकी यह काल्पनिक व्यंग्य रचना भी तीखी सच्चाई से भरी हुयी है. इस साहसिक ब्लॉग को पेश करने के लिए आपका हार्दिक अभिनन्दन

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

ब्लॉग का संज्ञान लेकर उसे पसंद करने एवं उस पर अपनी सार्थक टिप्पणी करने के लिए आपका हार्दिक आभार एवं अभिनन्दन !!!

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

ब्लॉग पर आकर उसकी सराहना करने एवं अपनी सार्थक टिप्पणी करने के लिए आपका धन्यवाद

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

बलवंत सिंह जी, आपकी बात एकदम दुरुस्त है. सरकार को चाहिए क़ि इन देशद्रोहियो के लिए तुरंत ही कड़े दंड क़ी व्यवस्था करे. ब्लॉग पर आने के लिए आपका आभार

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

नकवी साहब , ब्लॉग का संज्ञान लेकर उसे पसंद करने एवं उस पर अपनी टिप्पणी करने के लिए आपका शुक्रिया

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

सतीश जी, ब्लॉग का संज्ञान लेकर उसे पसंद करने के लिए आपका आभार

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

मोहन लाल जी, ब्लॉग का संज्ञान लेने के लिए आपका आभार

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

शर्मा जी, ब्लॉग पसंद करने के लिए आपका धन्यवाद

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 6, 2016

संग्राम सिंह जी, ब्लॉग का संज्ञान लेकर उसे पसंद करने एवं उस पर अपनी टिप्पणी करने के लिए आपका हार्दिक आभार

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 7, 2016

काले धन और जाली धन के सभी सौदागर सरकार के अगले कदम की बहुत बेताबी के साथ प्रतीक्षा कर रहे हैं.

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 7, 2016

संसद के दोनों सदनों में लगातार हंगामा भी इसीलिए मचाया जा रहा है ताकि सरकार का ध्यान इस तरफ ही लगा रहे और वह इन लोगों के खिलाफ और कोई कड़ी कार्यवाही न कर सके

sadguruji के द्वारा
December 8, 2016

आदरणीय राजीव गुप्ता जी ! अत्यंत रोचक काल्पनिक व्यंग्य रचना प्रस्तुत करने के लिए अभिनन्दन व् बधाई ! खुद को निष्पक्ष और सेकुलर साबित करने की कोशिश में लगी मीडिया का व्यवहार इन दिनों अजीब सा हो गया है ! देश के पीएम पर तंज, व्यंग्य और बेसिरपैर के आरोप हो तो रचनाएं छाप दे रहे हैं, किन्तु किसी अन्य नेता पर हो तो प्रकाशित करने से मना कर दे रहे हैं ! सादर आभार !

RAJEEV GUPTA के द्वारा
December 8, 2016

आदरणीय राजेन्द्र ऋषि जी, नवभारत टाइम्स की मौजूद संपादक मंडली “टाइम्स ग्रुप” की साख को दांव पर लगाने के लिए पूरी तरह आमादा है इसीके चलते अगर मौजूदा सरकार या मोदी के खिलाफ कुछ भी लिखा जाए तो यह लोग उसे छापने के लिए खुशी खुशी राजी हो जाते हैं, लेकिन किसी और राजनीतिक दल ( जिसे यह लोग “सेक्युलर” कहते हैं), के खिलाफ कुछ व्यंग्य भी लिखा जाए, तो इनसे बर्दाश्त नहीं होता है. इसी के चलते इस व्यंग्य रचना को नवभारत टाइम्स की संपादक मंडली ने छापने से मना कर दिया है. देश के मीडिया का इस तरह से बिक जाना अपने आप में दुर्भाग्यपूर्ण है. निष्पक्ष लेखन को इस तरह से मीडिया वाले कब तक दबा सकेंगे, इस आने वाला समय ही तय करेगा. ब्लॉग का संज्ञान लेकर उस पर अपनी सार्थक टिप्पणी करने के लिए आपका हार्दिक आभार एवं अभिनन्दन..


topic of the week



latest from jagran